आशूरा के रोज़े की फज़ीलत

मुफ्ती : मुहम्मद सालेह अल-मुनज्जिद

स्रोत:

साइट इस्लाम प्रश्न एंव उत्तर www.islam-qa.com

विवरण

मैं ने सुना है कि आशूरा का रोज़ा पिछले साल के गुनाहों का कफ्फारा (प्रायश्चित) बन जाता है, तो क्या यह बात सही है ? और क्या हर गुनाह यहाँ तक कि बड़े गुनाहों का भी कफ्फारा बन जाता है ? फिर इस दिन के सम्मान का क्या कारण है ?

Send a comment to Webmaster

ग़ैर-मुस्लिमों के त्योहार
2
फ़ीडबैक