• PDF

    रमज़ान मुबारकः इस पुस्तक में रमज़ान के महीने की विशेषता, रोज़े के गुण एवं लाभ, रोज़े का अर्थ और उसका हुक्म, रमज़ान के महीने के शुरू होने के सबूत, रोज़े की शर्तें, उसके स्तंभ, उसके शिष्टाचार, तथा रोज़े में उज़्र वाले लोगों, रोज़े में हराम चीज़ें, नफली रोज़े, रमज़ान में अफज़ल व पसंदीदा काम, ज़कातुल फित्र, ईद के शिष्टाचार इत्यादि का उल्लेख किया गया है।

  • PDF

    इस पुस्तक में संक्षेप के साथ उन अधिकांश नेक कार्यों का उल्लेख किया गया है जिनका अज्र व सवाब (पुण्य) आपके लिए एक अतिरिक्त आयु की वृद्धि करेगा, ताकि नेकियों से भरपूर आपका उत्पादक उम्र आपके कालानुक्रमिक उम्र से बड़ी हो जाय। यह किताब एक माइक्रोस्कोप के समान है जो हमारी नज़रों के सामने कई ऐसी हदीसों का एक नया महत्व उजागर करती है जिन्हें हम कभी-कभार पढ़कर बिना मननचिंतन के ही गुज़र जाते हैं। यह किताब तीन अध्यायों पर आधारित हैः प्रथमः उम्र बढ़ाने का महत्व और उसकी अवधारणा दूसराः उम्र को बढ़ाने वाले कार्य, और इसमें चार विषय हैं : पहला विषयः नैतिकता के द्वारा दीर्घायु करना. दूसरा विषय: कई गुना अज्र व सवाब वाले कार्यों द्वारा दीर्घायु करना. तीसरा विषय: मौत के बाद निरंतर जारी रहनेवाले सवाब के कार्यों द्वारा दीर्घायु करना. चौथा विषय: समय का सही उपयोग करके आयु को लम्बी करना। तीसरा अध्याय: नेकियों से भरपूर उत्पादक उम्र की रक्षा करने का तरीक़ा

  • सत्य मार्ग हिन्दी

    PDF

    यह पुस्तक सत्य धर्म को पहचानने और उसे स्वीकारने का आमंत्रण देती है क्योंकि वही एक मात्र विकल्प है जो मानवता के लिए लोक एवं परलोक में सफलता, सौभाग्य और नरक से मोक्ष प्राप्त करने का एकमात्र साधन है। प्रस्तुत पुस्तक इस बात पर प्रकाश डालती है कि मानव जाति की रचना का उद्देश्य क्या है - वह एकमात्र अल्लाह सर्वशक्तिमान की उपासना और आराधना है। इसिलए कि वही वास्तव में उपासना के योग्य है क्योंकि वही सबका सृष्टा, रचयिता, पालनकर्ता, व्यवस्थापक है तथा उसके अच्छे अच्छे नाम और सर्वोच्च गुण हैं। मानव जाति को अल्लाह के नियम, आदेशों और उसकी प्रसन्नता की चीज़ों को जानने के लिए संदेष्टा और ईश्दूतों की आवश्यकता होती है। चुनाँचे अल्लाह ने ईश्दूतों को भेजा और उनके साथ किताबें उतारी ताकि वे लोगों को अल्लाह के आदेश और निषेध से अवगत कराएं। उन महान पुरूषों ने अल्लाह के एकेश्वरवाद का आमंत्रण दिया, जिसका उल्लेख पिछले आकाशीय ग्रंथों और हिंदूमत के वेदों में भी मिलता है। सबसे अंतिम ईश्दूत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम हैं जिन पर अल्लाह ने अपना अंतिम और अनन्त दिव्य क़ुरआन उतारा जो सर्व मानव जाति के लिए मार्गदर्शक है। जिसका पालन करके ही मनुष्य लोक एवं परलोक में सफलता, सौभाग्य और नरक से मुक्ति प्राप्त कर सकता है। वह सत्य धर्म इस्लाम है जिसे हमारे सृष्टा ने असंख्य गुणों और विशेषताओं से सुसज्जित किया है। अतः आईये इसके पन्नों को पढ़ें और मननचिंतन करें कि क्या यह जीवन असीमित है या उसका कोई अंत है ॽ और मृत्यु के पश्चात क्या होगा ॽ

  • PDF

    यह पुस्तिका, हज्ज व उम्रा और मस्जिदे नबवी की ज़ियारत के लिए संक्षिप्त गाइड है, जिसमें सार रूप से हज्ज व उम्रा और मस्जिदे नबवी की ज़ियारत से संबंधित महत्वपूर्ण और आवश्यक जानकारी प्रस्तुत की गई है। तथा हज्ज व उम्रा और ज़ियारत के दौरान होने वाली त्रुटियों पर चेतावनी दी गई है। साथ ही साथ इसमें हाजियों के लिए अहम निर्देश और नसीहतें हैं।

  • PDF

    प्रस्तुत पुस्तक में ऐसे लोगों की कहानी उन्हीं की ज़ुबानी उल्लेख की गई है जिन्हों ने इस्लाम का गहन अध्ययन किया, उसे समझा और सोच-विचार कर उसे दिल की गहराईयों से स्वीकार किया जबकि वे वैज्ञानिक, चिकित्सक और बुद्धिमान लोग थे। इस पुस्तक का उद्देश्य केवल संसार वालों को यह बताना है कि आपके इन मित्रों के इस्लाम स्वीकारने का कारण क्या है तथा वे परलोक में क्या चाहते हैं तथा साथ ही साथ सारे लोगों को निमंत्रण देना है कि हरेक इस बात पर विचार करे कि हमारा तथा संसार की सभी चीज़ों का सृष्टा, रचयिता, पालनहार और स्वामी कौन है क्या वही सर्वशक्तिमान एकमात्र वास्तविक पूज्य नहीं है क्या उसके अतिरिक्त कोई और पूज्य हो सकता है

  • PDF

    यह पुस्तक तहारत और नमाज़ के प्रावधानों और नियमों से संबंधित महत्वपूर्ण संछिप्त लेख है जिसमें लेखक ने पवित्रता और नमाज़ के नियमों को संछेप में वर्णन किया है, पवित्रता के अध्याय में पानी के प्रकार, अशुद्धता और गंदगी से पवित्रता प्राप्त करने के प्रावधानों, शौच के शिष्टाचार, मिस्वाक एवं प्राकृतिक परंपराओं, वुज़ू की विधि, वुज़ू को तोड़ने वाली चीज़ें, स्नान का तरीक़ा, तयम्मुम और मासिक धर्म के प्रावधानों का उल्लेख किया है, तथा नमाज़ के अध्याय में अज़ान व इक़ामत के प्रावधान, नमाज़ का तरीक़ा, सज्दा सह्व के नियम, नमाज़ को संछिप्त करके और दो नमाज़ों को एक साथ पढ़ने के नियम, जुमा और ईदैन की नमाज़, इस्तिस्क़ा (बारिश मांगने) की नमाज़, ग्रहण की नमाज़, स्वैच्छिक नमाज़ और मुअक्कदह सुन्नतें तथा इस्तिखारा की नमाज़ के प्रावधानों और नियमों का वर्णन किया है।

फ़ीडबैक