रमज़ान में केवल रोज़ा रखने और नमाज़ न पढ़ने का हुक्म

फ़ीडबैक