ईद मीलादुन्नबी को अवैध समझनेवाले के लिए उसमें उपस्थित होने का हुक्म

विवरण

क्या बिदअत वाली सभाओं जैसे - मीलादुन्नबी की रात, मेराज की रात और पंद्रह शाबान की रात के उत्सवों में उस व्यक्ति के लिए उपस्थित होना जायज़ है, जो उनके अवैध होने का अक़ीदा रखता है ताकि वह उसके बारे में सच्चाई को बयान करे ॽ

फ़ीडबैक