विवरण

अप्रेल के प्रथम दिन को अप्रेल फूल मनाया या बनाया जाता है, जिस दिन लोग बिना किसी आचार संहिता के एक दूसरे को मूर्ख बनाने के लिए दिल खोल कर झूठ बोलते हैं, ऊट पटांग बाते कहते हैं, झूठे आरोप लगाते हैं, गलत सूचनाओं से उन्हें भयभीत करते हैं...इत्यादि। इस्लाम धर्म इन बातों से रोकता और इनका विरोध करता है, विशुद्ध मानव प्रकृति और स्वस्थ बुद्धि भी इसे नकारते हैं।

फ़ीडबैक