हदीसः "हामा, सफर, नौअ और ग़ूल कुछ भी नहीं है" का अर्थ

विवरण

मैं ने एक अनोखी हदीस पढ़ी है जिस में "हामा, सफर, नौअ और ग़ूल" का खण्डन किया गया है, तो इन शब्दों का क्या अर्थ है ?

Download
वेबमास्टर को टिप्पणी भेजें
फ़ीडबैक