विवरण

आदरणीय शैख मुहम्मद सालेह अल-मुनज्जिद से प्रश्न किया गया किः मैं ने एक शीया सहयोगी से सुना है कि उनके यहाँ एक ऐसी सूरत है जो हमारे मुसहफ (क़ुरआन) में नहीं पाई जाती है, तो क्या यह बात सही है? इस सूरत का नाम सूरत ’’अल-विलायत’’ है।

फ़ीडबैक