पंद्रह शाबान की रात को सूरत यासीन और मौलिद पढ़ना

विवरण

हमारे यहाँ पंद्रह शाबान की रात को लोग मस्जिदों में एकत्र होते हैं और तीन बार सूरत यासीन पढ़ते हैं और मौलिद पढ़ते हैं।

फ़ीडबैक