बिना कारण रमज़ान के रोज़े की क़ज़ा न करने का हुक्म

विवरण

उस व्यक्ति का क्या हुक्म है जिसने रमज़ान के रोज़े की क़ज़ा को छोड़ दिया जबकि उसके पास कोई उज़्र (बहाना, कारण) नहीं है, क्या उसके लिए क़ज़ा करने के साथ केवल तौबा कर लेने काफी है, या उस पर कफ्फारा अनिवार्य है ?

Download
वेबमास्टर को टिप्पणी भेजें
फ़ीडबैक