वैज्ञानिक श्रेणियाँ

कर्मों और पूजा के कृत्यों की प्रतिष्ठा और उनसे संबंधित बातें

आइटम्स की संख्या: 6

  • MP3

    सहाबा रज़ियल्लाहु अन्हुम की महानताः प्रस्तुत व्याख्यान में पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के सम्मानित सहाबा रज़ियल्लाह अन्हुम की महानता व प्रतिष्ठा का उल्लेख किया गया है। ये लोग इस उम्मत की पहली पीढ़ी हैं, जिन्हें अल्लाह ने अपने पैगंबर की संगति और इस महान धर्म की रक्षा तथा उसके प्रसार-प्रचार के लिए चयन किया। सहाबा के बारे में शीया संप्रदाय की नीति व व्यवहार ग़लत मात्र है, पवित्र क़ुरआन के स्पष्ट प्रमण इसका खण्डन करते हैं।

  • MP3

    नेकियों पर स्थिरताः अल्लाह तआला ने बन्दों को मात्र अपनी उपासना के लिया पैदा किया है और उन्हें अपनी आज्ञाकारिता का आदेश दिया है, और मृत्यु से पहले इसकी कोई सीमा निर्धारित नहीं किया है, बल्कि उन्हें मृत्यु के आने तक नेक कार्यों पर जमे रहने का आदेश दिया है। हमारे सन्देष्टा मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम और आपके सहाबा रज़ियल्लाहु अन्हुम तथा पुनीत पूर्वजों का यही तरीक़ा था कि वे इस पहलू पर काफी ध्यान देते थे। प्रस्तुत व्याख्यान में निरंतर नेक कार्य करने और पूजा कृत्यों पर जमे रहने पर बल दिया गया है, यहाँ तक कि आदमी की मृत्यु आ जाए, और इस दुनिया में उसका अन्त अच्छे कार्यों पर हो ताकि परलोक के दिन इसी हालत में उसे उठाया जाए। इसी तरह उन नाम-निहाद औलिया का खण्डन किया गया है जो झूठमूठ यह दावा करते हैं कि वे इस स्तर पर पहुँच गए हाँ जहाँ उनके लिए शरीअत की प्रतिबद्धता समाप्त हो जाती है!!!

  • PDF

    एक मुसलमान के लिए सर्वश्रेष्ठ और अति महत्वपूर्ण बातों में से हैं कि वह अपने दैनिक जीवन में सभी मामलों के अंदर पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की सुन्नतों (मार्गदर्शन और तरीक़े) का पालन करे। यह इस बात का लक्षण है कि आदमी अल्लाह से प्यार करता है, तथा इसके फलस्वरूप अल्लाह सर्वशक्तिमान उसे अपने प्यार से सम्मानित करता है ! अतएव, प्रस्तुत पुस्तिका में पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के दैनिक जीवन से एक हज़ार से अधिक सुन्नतों का उल्लेख किया गया है जिनका आसानी से पालन किया जा सकता है। इसलिए प्रत्येक मुस्लिम के लिए शोभित है कि इन सुन्नतों की जानकारी प्राप्तकर अपने दैनिक जीवन में इनका पालन करे।

  • PDF

    इस्लाम और वैश्विक भाईचाराः इस पुस्तक में इस्लाम में एक ऐसे भाईचारा –बंधुत्व- पर चर्चा किया गया है जो सर्व मानवजाति को सम्मिलित है, जिसका आधार लिंग, या राष्ट्र, या रंग, या नस्ल . . . इत्यादि पर नहीं, बल्कि इसका आधार मात्र एक सृष्टा, एक परमेश्वर और एक पूज्य पर विश्वास रखने और केवल उसी की उपासना व आराधना करने पर आधारित है। इसके प्रथम भाग में उन तत्वों और कारणों का उल्लेख किया गया है जो वैश्विक भाईचारा के लिए आवश्यक अंश हैं, और यह केवल एकेश्वरवाद के आधार पर ही संभावित है जिसकी शिक्षा सभी धर्मों ने दिया है। इसके दूसरे भाग में इस्लाम और वैश्विक भाईचारा से संबंधित 14 प्रश्नों के उत्तर प्रस्तुत किए गए हैं। यह इ-बुक हिन्दी बलागर उमर केरानवी साहब का सुप्रयास है।

  • PDF

    क्या क़ुरआन ईश्वरीय ग्रंथ हैॽ इस पुस्तक में सतर्क यह वर्णन किया गया है कि क़ुरआन करीम सर्व मानवजाति के लिए अल्लाह का अंतिम ग्रंथ है, जिसे अल्लाह ने मानवता के मार्गलर्शन के लिए अपने अंतिम संदेष्टा मुहम्मद पर अवतरित किया है और इसकी रक्षा का वादा किया है। इसके साधन और स्रोत के बारे में लोगों के अंदर जो गलत धारणायें और विचार पाए जाते हैं उनका सतर्क खण्डने करते हुए वैज्ञानिक प्रमाणों द्वारा इस बात को प्रमाणित किया गया है कि क़ुरआन ईश्वरीय ग्रंथ है, किसी मानव का कलाम हो ही नहीं सकता। किताम के अंतिम भाग में क़ुरआन और इस्लाम के बारे में विभिन्न प्रश्नों के उत्तर प्रस्तुत किए गए हैं। यह इ-बुक हिन्दी बलागर उमर केरानवी साहब का सुप्रयास है।

  • PDF

    पवित्र क़ुर्आन मानवता के नाम अल्लाह का सर्व कालिक और अन्तिम संदेश है, जो मानवता की लौकिक और पारलौकिक हितों के मार्गदर्शन पर आधारित है, जो सत्य और असत्य, मार्गदर्शन और पथभ्रष्टता, सौभाग्य और दुर्भाग्य के बीच अन्तर स्पष्ट करता है। वह महीना जिस में मानवता को यह सौभाग्य प्राप्त हुआ, वह रमज़ान का ही शुभ महीना है। इसलिये हमारे अति उचित है कि हम विशेष रूप इस मुबारक महीने में इस महान ग्रंथ का पाठ करने, उसे पढ़ने-पढ़ाने, सीखने-सिखाने, उसमें मननचिंतन करने और उसके अनुसार कार्य करने पर भरपूर ध्यान दें। इस पर हमें क्या लाभ मिलेगा ? पढ़िये इस लेख में।

फ़ीडबैक