वैज्ञानिक श्रेणियाँ

  • हिन्दी

    PDF

    किताबुत तौहीद जो बंदों पर अल्लाह का अधिकार है

  • हिन्दी

    PDF

    शुद्ध अक़ीदा और उसके विरुद्ध चीज़ें- शुद्ध अक़ीदा ही इस्लाम धर्म का मूल तत्व और मिल्लत का आधार है, इसी के साथ पवित्र कुरआन अवतरित हुआ और अल्लाह तआला ने अपने ईश्दूत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम को भेजा. तथा कोई भी कथन और कर्म उस समय तक शुद्ध और स्वीकार नहीं हो सकता जब तक कि वह शुद्ध अक़ीदा पर आधारित न हो। प्रस्तुत पुस्तक में किताब व सुन्नत से प्रमाणित शुद्ध अक़ीदा का उल्लेख किया गया है जिस पर ईमान लाना और उस पर सुदृढ़ रहना अनिवार्य है, तथा उसके विरुद्ध और विपरीत अक़ीदों का वर्णन करके उनसे सावधान किया गया है।

  • हिन्दी

    PDF

    इस पुस्तक में अल्लाह, उसके फरिश्तों, उतकी किताबों, उसके रसूलों, आख़िरत के दिन और अच्छी व बुरी तक़्दीर पर ईमान के विषय में क़ुर्आन व हदीस की रोशनी में अहले सुन्नत वल-जमाअत का अक़ीदा तथा अक़ीदा के लाभ का उल्लेख किया गया है।

  • हिन्दी

    PDF

    अल्लाह के नामों एवं विशेषणों पर ईमान

  • हिन्दी

    MP4

    एकेश्वरवाद की किस्में : प्रस्तुत वीडियो में एकेश्वरवाद की तीनों क़िस्मों का वर्णन किया गया है, तौहीद रुबूबियत यानी अल्लाह के प्रभुत्व का एकेश्वरवाद, तौहीद उलूहियत यानी अल्लाह के देवत्व का एकेश्वरवाद, और तौहीद अस्मा व सिफात यानी अल्लाह के नामों और गुणों का एकेश्वरवाद।

  • हिन्दी

    MP3

    अल्लाह सर्वशक्तिमान के साथ शिर्क (बहुदेववाद) इस धरती पर अल्लाह की सबसे बड़ी अवज्ञा है। वास्तव में यह सबसे बड़ा अन्याय, सबसे बड़ा अत्याचार, सबसे बड़ा पाप, सबसे बड़ा भद्दा और सबसे बड़ा अपराध है। क्योंकि इसका संबंध सर्वसंसार के पालनहार सर्वशक्तिमान अल्लाह के साथ है। अनेकेश्वरवादियों का अधिकांश शिर्क अल्लाह की उपासना व पूजा कृत्यों में घटित हुआ है। जैसे- अल्लाह को छोड़कर दूसरों को पुकारना, विनती करना, या पूजा के कृत्यों में से किसी प्रकार को ग़ैरुल्लाह के लिए करना, जैसे कि अल्लाह के अलावा के लिए जानवर का बलिदान, मन्नत मानना, भय, आशा, प्रेम, तवक्कुल (भरोसा), इत्यादि। प्रस्तुत आडियो में इसी पर चर्चा किया गया है।

  • हिन्दी

    PDF

    यह पुस्तक उस तौहीद (एकेश्वरवाद) की वास्तविकता को स्पष्ट करती है जिसके साथ अल्लाह ने समस्त संदेष्टा को अवतरित किया, तथा इस एकेश्वरवाद के विषय में अनेकेश्वरवादियों की ओर से व्यक्त किए जाने वाले संदेहों का खंडन करती है। लेखक ने इसमें तौहीद एवं शिर्क का अर्थ और उनके भेद, धरती पर घटित सर्वप्रथम शिर्क की घटना, तथा संसार में प्रचलित शिर्क के विभिन्न रूपों और इस समुदाय में शिर्क की बाहुल्यता एवं उसके पनपने के कारणों वर्णन किया है। उन्हीं में से एक व्यापक कारण वे संदेह हैं जिनका अनेकेश्वरवादी आश्रय लेते हैं और इस घोर पाप के लिए उन्हें अपना आधार मानते हैं। लेखक ने ऐसे 12 संदेहों का उल्लेख कर उनका स्पष्ट सत्तर दिया है। अंत में इस घोर पाप को करने वाले के भयंकर और दुष्ट परिणामों का चर्चा करते हुए इस से सावधान किया है।

  • हिन्दी

    PDF

    इस पुस्तिका में इस्लामी अक़ीदा से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण मसाइल को प्रश्न-उत्तर के रूप में प्रस्तुत किया गया है। ये मसअले शैख मुहम्मद जीमल ज़ैनू की पुस्तक (अल-अक़ीदा अल-इस्लामिय्या मिनल किताबि वस्सुन्नतिस्सहीहा) से संकलित किए गए हैं। इसमें शिर्क, तौहीद, जादू, वसीला, दुआ, तसव्वुफ, क़ब्रों की जि़यारत और उस पर सज्दा करना और उसे छूना इत्यादि जैसे मसाइल पर चर्चा किया गया है।

  • हिन्दी

    PDF

    इस पुस्तिका में अल्लाह की तौहीद (एकेश्वरवाद) के उस संयुक्त संदेश का उल्लेख किया गया है जिस के साथ आदम –अलैहिस्सलाम- से लेकर मुहम्मद -सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम- तक सभी ईश्दूत और सन्देष्टा भेजे गये। तथा आज यहूदियों और ईसाईयों के हाथों में मौजूद बाइबल (ओल्ड टैस्टामेंट एंव नया टैस्टामेंट) के हवालों से अल्लाह के एकेश्वरवाद को प्रमाण-सिद्ध किया गया है।

  • हिन्दी

    PDF

    तक़्वियतुल-ईमान : यह उर्दू भाषा में लिखित सुप्रसिद्ध पुस्तक है जिसे पढ़ कर लाखों लोग एकेश्वरवाद से परिचित हुए। इस पुस्तक मे तौहीद को प्रामाणित करने तथा शिर्क का खण्डन करने से संबंधित आयात एंव अहादीस

  • हिन्दी

    PDF

    मुसलमान के अक़ीदा से संबंधित यह एक बात-चीत है जो एक शांतिपूर्ण वातानरण में अब्दुल्लाह और अब्दुन्नबी नामी दो व्यक्तियों के बीच हुई है। इस में सर्वश्रेष्ट सत्य कर्म तौहीद –एकेश्वरवाद- की वास्तविकता तथा महा पाप शिर्क –अनेकेश्वरवाद-और उन के विषय में मुसलमान जन साधारण के बीच पाए जाने वाले सन्देहों और ग़लतफहमियों का खण्डन किया गया है।

  • हिन्दी

    PDF

    अल्लाह जल्ल जलालुहु (सर्वशक्तिमान व महामहिम) प्रेम करने वालों का मित्र हैः यह पुस्तक अल्लाह तआला के अस्मा -ए- ह़ुस्ना (सुंदर व प्यारे नामों) पर ईमान से परिपूर्ण एक अछूती शैली में प्रकाश डालती है, अल्लाह तआला के उन नामों के मध्य तुलनात्मक ढ़ंग अपनाते हुये जो एक ही यौगिक से निकले हैं, उदाहरणस्वरूपः अल्लाह एवं इलाह, रह़मान एवं रह़ीम तथा वाह़िद एवं अह़द ... इत्यादि।

  • हिन्दी

    PDF

    यह एक संक्षिप्त शैक्षिक निबंध है, जिसमें लेखक ने यह स्पष्ट किया है कि धर्म केवल दो सिद्धांतों पर आधारित है, फिर उन लोगों का उल्लेख किया है जो इन सिद्धांतों को समझने और इन्हें व्यवहार में लाने में (पूर्वजों) का विरोध करते हैं,ये विरोधी दस प्रकार के हैं, यह लेख धर्म के मूलभूत आधार को समझने का सही तरीका स्पष्ट करता है, जो केवल एक है, तथा धर्म के मौलिक आधार को समझने के गलत और निराधार तरीकों से भी परदा उठता है,जिन की संख्या दस है,इस प्रकार यह एक अत्यंत शैक्षिक और उपयोगी निबंध है, जिसके माध्यम से एक मुसलमान हिदायत के मार्ग से अवगत हो सकता है ताकि वह उसका अनुगमन करे, और गुमराही (त्रुटि)के मार्ग से भी परिचित हो सके ताकि वह उससे दूर रहे, और वह धर्म पर अडिग रहा, उसका पांव डगमगाए नहीं।

  • हिन्दी

    PDF

    क्या ईश्वर हैॽ: इस लेख में अल्लाह सर्वशक्तिमान के अस्तित्व पर बुद्धि के द्वारा तर्क स्थापित किया गया है।

  • हिन्दी

    MP4

    हम तौहीद का पाठ क्यों करें

फ़ीडबैक