वैज्ञानिक श्रेणियाँ

  • PDF

    यह मुहम्मद अल-हमूद अन्नजदी से पूछा गया एक प्रश्न है, जिसके शब्द यह हैंः ’’कुछ वार्षिक अवसरों और समारोहों जैसे- अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस, अंतरराष्ट्रीय विकलांग दिवस और अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस, इसी तरह कुछ धार्मिक अनुष्ठानों जैसे- इस्रा व मेराज (पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की रातों-रात मक्का से मस्जिदे अक़्सा तक, फिर वहाँ से आकाश तक की यात्रा की सालगिरह), मीलादुन्नबी (पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम का जन्म दिवस) और हिज्रत (पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के मक्का से मदीना की ओर प्रवास की सालगिरह) के समारोहों में भाग लेने में शरीअत का क्या हुक्म है? और वह इस प्रकार कि लोगों को याद दिलाने और उन्हें नसीहत (सदुपदेश) करने के लिए व्याख्यान और इस्लामी सेमिनार का आयोजन किया जाए या कुछ पत्रक तैयार किए जाएं।

  • PDF

    हाल के वर्षों में बहुत से मुस्लिम समुदायों में नए ईसवी साल के प्रवेश का जश्न मनाने की प्रथा प्रचलित हो गई है। प्रस्तुत लेख में हर प्रकार के जन्मदिन समारोहों के आयोजन और नए वर्ष के प्रवेश का उत्सव मनाने के निषिद्ध होने का उल्लेख किया गया है।

  • PDF

    बहुत से मुसलमान जानते हुए या अनजाने में गैर-मुस्लिमों के अनेक त्योहारों और धार्मिक पर्वों में भाग लेते हैं, जिनमें से एक नए साल का जश्ना मनाना भी है। इस अवसर पर वे एक दूसरे को नए वर्ष की बधाई देते हैं, बधाई कार्ड तथा उपहार भेंट करते हैं। प्रस्तुत लेख में इस्लामी दृष्टिकोण से इसका प्रावधान उल्लेख किया गया है और मुसलमान को इस तरह के अवसरों से दूर रहने की चेतावनी दी गई है।

  • video-shot

    MP4

    हर साल १४ फरवरी को वैलेंटाइन्स दिवस या प्रेमियों का त्योहार या "संत वेलेंटाइन दिवस" मनाना युवा मुसलमानों के बीच बड़े पैमाने पर एक व्यापक घटना बन गया है। प्रस्तुत वीडियो में, इस अधार्मिक परंपरा की बुराई, इसकी उत्पत्ति, उसके इतिहास, उसके बारे में इस्लाम के दृष्टिकोण, समाज पर उसके बुरे प्रभावों और गंभीर खतरों का खुलासा किया गया है। इसी तरह युवाओं और युवतियों के बीच मिश्रण, प्रेम प्रसंग और अवैध संबंध की बुराइयों और उनके दूरगामी दुष्ट परिणामों से सावधान किया गया है।

  • PDF

    वेलेंटाइन दिवस (प्यार का त्योहार) मनाने के विषय में शैख इब्ने उसैमीन रहिमहुल्लाह का स्वयं उनके हाथ का लिखा हुआ फत्वा जिस में उन्हों ने मुसलमानों को गैर मुस्लिमों की छवि अपनाने से सावधान किया है।

  • PDF

    वेलेंटाइन दिवस (प्यार का त्योहार) मनाने का क्या हुक्म है ?

  • PDF

    अप्रेल के प्रथम दिन को अप्रेल फूल मनाया या बनाया जाता है, जिस दिन लोग बिना किसी आचार संहिता के एक दूसरे को मूर्ख बनाने के लिए दिल खोल कर झूठ बोलते हैं, ऊट पटांग बाते कहते हैं, झूठे आरोप लगाते हैं, गलत सूचनाओं से उन्हें भयभीत करते हैं...इत्यादि। इस्लाम धर्म इन बातों से रोकता और इनका विरोध करता है, विशुद्ध मानव प्रकृति और स्वस्थ बुद्धि भी इसे नकारते हैं।

  • PDF

    वेलेंटाइन्स-डे की वास्तविकता और उसके विषय में इस्लामी दृष्टि कोण : हर वर्ष 14 फरवरी को विश्व भर मे धूम धाम से वेलेंटाइन्स-डे मनाया जाता है, किन्तु इसकी वास्तविकता क्या है और इसके विषय में इस्लामी दृष्टिकोण क्या है और एक मुसलमान के लिये इसको मनाना कैसा है, इस लेख में इन्हीं तत्वों को स्पष्ट किया गया है.

फ़ीडबैक